Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2014

Any trip is worth it!

-Sumit

For me, hinterlandsand plain bound cities of Uttar Pradesh have never been very enticing to travel to or visit, probably because for most people living in my part of the world, growing up, travelling has always meant hill stations, nani ka ghar or going for a wedding. But having all grown up and (if I could say so myself) having gained some perspective, I now realise that there can be many things to ‘see’ in these places as well, only if you are ready to erase all earlier perspectives, ready to gain some new ones. Getting an opportunity to visit Aligarh Muslim University (a stalwart institution in the Western UP region) and also not having travelled anywhere in a long, long time, I jumped at it when the chance presented itself.

उच्च जातीय पत्रिकाएँ: जातिगत राजनीति की उपकरण।

द्वारा: सुमित चतुर्वेदी
प्रस्तावना:जहाँ जातिगत राजनीति निम्न जाति वर्ग के लिए उपेक्षा और अन्याय के विरुद्ध लड़ने का माध्यम बनती है, वहीं अपनी जातीय पहचान को बनाए रखकर इसी जातिगत राजनीति का विरोधाभासी विरोध उच्च जातीय राजनीति की विशेषता है। इसी विरोधाभास का स्पष्ट उदाहरण उच्च जातीय संगठनों द्वारा प्रकाशित पत्रिकाओं के विश्लेषण से मिलता है। इस लेख में उत्तर प्रदेश के विभिन्न जातीय संगठनों द्वारा वर्ष 2001 से 2010 के बीच प्रकाशित पत्रिकाओं का विश्लेषण किया गया है और उच्च जातीय राजनीति के आधुनिक संचार माध्यमों के उपयोग पर प्रकाश डाला गया है।