Skip to main content

Posts

Showing posts from November, 2012

व्यापार और संस्कृति

शौपिंग मौल्स को सांस्कृतिक चुनौती। द्वारा: सुमित चतुर्वेदी प्रस्तावना: शौपिंग मौल्स भले ही बड़े शहरों में आधुनिक उपभोक्ता की पहली पसंद बन चुके हों पर आगरा में उनका खुलना और चलना एक असफ़ल और प्राय: चुनौतीपूर्ण प्रयास रहा है। ऐसे में आधुनिक उपभोक्तावाद को आंख मूँद कर व्यापार का भविष्य मानना हड़बड़ी का फ़ैसला हो सकता है। इस लेख में इस शहर में शौपिंग मौल्स के अनुभव पर विस्तार से चर्चा की गई है और उसके मुश्किल भरे सफ़र की वजहों पर गौर किया गया है।

Shopping Malls in Agra: A failed experiment

Agra: Trade is the second oldest organized profession in civilizational history of the world. While capitalism is a few centuries old phenomenon, it has managed to completely alter production relations. In present age through consumerism it has sought to do so with trade as well. In form of shopping malls it has tried to strategically homogenize consumption patterns, transcending cultures and histories. Although the present day debate accepts this as inevitable, this article narrates the experience of Agra where this strategy has not materialized and looks into the reasons for the same.